होटल में एक रात


(Hotel mein ek raat)

हाय जानू…
मैं अभी ट्रेन में हूँ और मेरे गाँव जा रही हूँ।

पता नहीं क्यूँ रात में ट्रेन कहीं रुक गई है इसलिए मैं सीक्रेट्ली तुम्हारे लिए कॉन्फेशन रिकॉर्ड कर रही हूँ।

राहुल और मैं कल्याण पहुँचने के बाद एक रात एक होटल में रुके।

ट्रेन अगली सुबह आने वाली थी।

मैंने जान बूझ कर राहुल को एक दिन पहले बुलाया था।

ताकि हम गाँव जाने से पहले हमारी सेक्सी यादों को ताज़ा कर सकें और पहली बार नार्मल लोगों की तरह बिस्तर में प्यार कर सकें।

जैसे ही हम होटल रूम के अंदर आये राहुल ने अपना बैग रखा और मुझे एक वाल पर पुश करके मुझे किस करने लगा।

उसके हाथ मुझे टाइटली होल्ड कर रहे थे और मेरे हाथ उसके बैक को सहला रहे थे।

कुछ देर तक उसने मेरे होंठों को जी भर के चूमा और जब हमारे होंठ अलग हुए तो मैंने कहा की पहले फ्रेश हो जाओ… पूरी रात पड़ी है… आज रात मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ, मेरे साथ जो मर्ज़ी कर सकते हो।

राहुल ने कहा कि उसने मुझे बहुत मिस किया है और अब उससे रहा नहीं जाता।

यह कह कर उसका एक हाथ मेरे सीने पर आया और उसने मुझे जेंटली स्क्वीज़ करते हुए कहा कि आज वो बिना किसी देरी से मेरे साथ वो सब अनुभव करना चाहता है जिसके बारे में सोचकर उसकी रातें कटती थी।

मैंने मुस्कुराते हुए कहा- ठीक है, कर लो जो करना है।

राहुल ने फिर मुझे किस किया और हम दोनों चुम्बन करते हुए स्लोली बेड की ओर बढ़े।

मैं बेड पर गिरी और वो मेरे ऊपर था।

किस करने के साथ-साथ वो मेरे बदन को स्क्वीज़ कर रहा था।

मेरे टॉप को उसने ऊपर खींचा और उसके हाथों ने अंदर प्रवेश किया।

उसके ठण्डे हाथ मेरे गर्म जिस्म को टच करके मेरे बदन में कर्रेंट्स भेज रहे थे।

उसने मेरी ब्रा को पुश करके मेरे सीने से हटा दिया।

कुछ देर में हमारे कपडे ज़मीन पर बिखरे पड़े थे और हम दोनों एक दूसरे के नेकेड बदन को एक्स्प्लोर कर रहे थे।

राहुल के हाथ मेरी पीठ को सहला रहे थे और हम दोनों बातें कर रहे थे।

राहुल मुझे वेकेशन में बिताये पलों की याद दिला कर किस कर रहा था और मैं एक्साइटमेंट में उसके बदन को स्क्रैच कर रही थी।

फिर मैं बेड पर बैठी और उसे लेटे रहने को कहा।

मैं उसके स्टोमक के करीब बेंड हो गयी और अपना काम शुरू किया।

राहुल को मैक्सिमम प्लेजर देने के लिए मैंने वो सब कुछ किया जो एक औरत एक मर्द के लिए कर सकती है।

मेरे प्लेजर देने के तरीके से राहुल भरपूर आनंद पा रहा था।

उसका हाथ मेरे सर पर था और मेरे हेड को मूव करने में हेल्प कर रहा था।

उसे कुछ देर ऐसे प्लेजर देने के बाद मैं बेड पर लेट गयी और वो मेरे ऊपर चढ़ा।

राहुल ने कहा कि अब वो भी मुझे उतना ही प्लेजर देगा जितना मैंने उसे दिया है और उसने बिलकुल वैसा ही किया।
उसने अपनी उंगलियो से कमाल कर दिया और मैं कुछ देर तक मॉन करती रह गयी।

फिर हमने प्यार का वो मदहोश सिलसिला शुरू किया जिसे मैं कभी भूलना नहीं चाहती थी।

राहुल ने मुझे इतनी गहराई तक प्यार किया कि… मैं उस फीलिंग में बेहोश हो गयी।

मैं चाहती थी की यह सिलसिला कभी ना थमे उसके हर धक्के से मेरे अंदर एक ह्यूज प्लेजर उमड़ रहा था जो मेरे पूरे शरीर से गुज़र कर मेरे मुँह से एक मॉन के रूप में बाहर आने लगा।

एक पल ऐसा आया जिसमे मेरे बदन में एक घन-घनाहट हुई।

एक छोटा सा एहसास जो राहुल के हर एक धक्के से ताकत लेता गया और फिर अचानक मेरे बदन से छूट गया मुझे मदहोशी में छोड़ कर।

राहुल ने भी उस एहसास को कुछ देर में महसूस किया और वो मुझ पर गिर गया।

उसका फेस मेरे फेस से कुछ इन्च दूर था, मैंने उसे एक लाइट किस करके थैंक यू कहा।

राहुल के हाथ मेरे सीने पर थे और धीरे-धीरे वो नींद में चला गया।

मैंने उसे हग करके अपनी आँखे बंद कर दी और हम दोनों वैसे ही वहाँ उस बिस्तर पर सो गए।

देर रात में हम कई बार जागे और एक दूसरे को और प्यार किया।

वो रात उस होटल रूम में मेरी सबसे हसीन रात थी।

राहुल और मैंने एक दुसरे को हद से ज़्यादा संतुष्ट कर दिया था और सुबह हम दोनों ने एक साथ शावर में बाथ किया।

तो जानू इस तरह मैंने अपने पास्ट को भुला कर अपने प्रेजेंट को एन्जॉय किया और अब बस अपनी लाइफ को एन्जॉय करने का डिसिशन लीया।

तुमसे फिर बात करुँगी अपने अगले कॉन्फेशन से, इंतज़ार करना स्वीटहार्ट!

बाई…मुआह!!