गलतफहमी-4

दोस्तो.. मेरी कहानी को आप सबका भरपूर प्यार मिल रहा है, इसके लिए धन्यवाद। आपने अब तक पढ़ा कि मेरे दुकान की एक ग्राहक तनु भाभी से मेरी नजदीकियाँ बढ़ रही हैं, किन्तु वो मेरे से बहुत खुल कर व्यवहार करना चाहती है। इसी वजह से उसने मेरे साथ मस्ती की, और अब मेरे बारे…


गलतफहमी-3

(Galatfahami- Part 3) कहानी के पिछले भाग में तनु भाभी की मस्ती और उनसे मेरी दोस्ती कैसे आगे बढ़ रही है वो आपने पढ़ी, अब आगे… भाभी से व्हाटसप में बातें करते वक्त, मैंने उनका मन टटोलते हुए कहा कोई प्यार मोहब्बत का चक्कर तो नहीं था! भाभी ने हाँ कहा और ‘ये बातें फिर…


गलतफहमी-2

(Galatfahami- Part 2) गलतफहमी-1 नमस्कार दोस्तो, आपका संदीप साहू कहानी का अगला भाग लेकर एक बार फिर हाजिर है। आप लोगों के ईमेल मुझे लगातार प्राप्त हो रहे हैं, सभी का जवाब दे पाना संभव नहीं है, इसलिए इस कहानी में मैंने सभी को एक साथ जवाब देने का प्रयत्न किया है। अब तक आपने…


गलतफहमी-1

(Galatfahami-Part 1) अंतर्वासना के सभी पाठकों को संदीप साहू का नमस्कार! दोस्तो, आप लोगों ने मेरी पिछली कहानियों को खूब सराहा, आप लोगों के प्यार के लिए पुनः धन्यवाद। मुझे बहुत से ई-मेल आये हैं, कुछ अनुभव खट्टे कुछ मीठे कुछ कड़वे थे, खैर जैसे भी हो, आप लोगों ने मेल किया, यही बहुत है!…